शेयर कैसे चुनें: 2023 भारतीय Stock Market में Invest करने के लिए एक Beginner Guide

0
8
शेयर कैसे चुनें

शेयर कैसे चुनें: शेयर बाजार में निवेश करना आपके धन को बढ़ाने का एक शानदार तरीका हो सकता है, लेकिन चुनने के लिए इतने सारे stocks के साथ, यह जानना challenging हो सकता है कि कहां से शुरू करें। यदि आप भारतीय शेयर बाजार में निवेश करने के लिए नए हैं, तो आप सोच रहे होंगे कि ऐसे शेयर कैसे चुनें जो आपके निवेश पर अच्छा रिटर्न देने की संभावना रखते हों। इस लेख में, हम भारतीय शेयर बाजार में शेयर चुनने के लिए कुछ strategies और tips के साथ-साथ इस investment approach के pros and cons का पता लगाएंगे। चाहे आप एक अनुभवी निवेशक हों या अभी शुरुआत कर रहे हों, आपको informed investment decisions लेने में मदद करने के लिए valuable insight और actionable advice सलाह मिलेगी।

Indian Stock Market को समझना

शेयर कैसे चुनें, इससे पहले कि हम शेयरों का चयन कैसे करें, Indian Stock बाजार को समझना important है। शेयर बाजार एक ऐसी जगह है जहां आप कंपनियों के शेयर खरीद और बेच सकते हैं। भारतीय शेयर बाजार में two major stock exchanges शामिल हैं: Bombay Stock Exchange (BSE) और National Stock Exchange (NSE)। BSE एशिया का सबसे पुराना stock exchange है, जबकि बाजार capitalization के मामले में NSE भारत में सबसे बड़ा है।

कंपनियां capital raise के लिए शेयर जारी करती हैं। जब आप कोई शेयर खरीदते हैं, तो आप कंपनी के आंशिक स्वामी बन जाते हैं। आप अपने शेयरों को खरीदे गए मूल्य से higher price पर बेचकर या लाभांश प्राप्त करके पैसा कमा सकते हैं, जो कि कंपनी के profits का एक हिस्सा है।

इसे भी पढ़ें: ट्रेडिंग अकाउंट कैसे खोलें

शेयर चुनते समय consider करने योग्य Factors (शेयर कैसे चुनें)

अब जब आपको Indian stock market की बुनियादी समझ हो गई है, तो शेयरों को चुनते समय विचार करने के लिए कुछ Factors पर नजर डालते हैं।

कंपनी के Basic Fundamentals

शेयर चुनते समय सबसे पहले कंपनी के फंडामेंटल पर ध्यान देना चाहिए। इसमें company’s financials, management team, competitive landscape और industry trends जैसी चीजें शामिल हैं। आपको कंपनी की विकास क्षमता और आने वाले उत्प्रेरकों को भी देखना चाहिए जो स्टॉक की कीमत को ऊपर या नीचे चला सकते हैं।

मूल्यांकन (Evaluation)

विचार करने के लिए एक अन्य महत्वपूर्ण कारक कंपनी का मूल्यांकन है। इसमें प्राइस-टू-अर्निंग (पी/ई) अनुपात, प्राइस-टू-बुक (पी/बी) अनुपात और डिविडेंड यील्ड जैसी चीजें शामिल हैं। एक कंपनी जो अपने साथियों की compare में कम आंकी गई है, निवेश का एक good investment opportunity हो सकता है।

शेयर चुनते समय मार्किट के रुझान पर ध्यान देना भी जरूरी है। इसमें पूरे बाजार के trends, क्षेत्र के रुझान और समकक्ष कंपनियों के performance जैसी चीजें शामिल हैं। आपको मैक्रोइकोनॉमिक माहौल और कंपनी या उद्योग को प्रभावित करने वाले किसी भी नियामक परिवर्तन पर भी विचार करना चाहिए।

जोखिम सहनशीलता (Risk Tolerance)

अंत में, शेयर चुनते समय आपको अपनी risk tolerance पर विचार करना चाहिए। विभिन्न प्रकार के शेयर levels of risk के साथ आते हैं। उदाहरण के लिए, ब्लू-चिप शेयरों को आमतौर पर स्मॉल-कैप शेयरों की तुलना में less risky भरा माना जाता है। आपके व्यक्तिगत financial goals से match खाने वाले risk और reward के बीच balance खोजना balance है।

इसे भी पढ़ें: ऑप्शन ट्रेडिंग कैसे करते हैं

अंत में, शेयर चुनते समय आपको अपनी risk tolerance पर विचार करना चाहिए। विभिन्न प्रकार के शेयर levels of risk के साथ आते हैं। उदाहरण के लिए, ब्लू-चिप शेयरों को आमतौर पर स्मॉल-कैप शेयरों की तुलना में less risky भरा माना जाता है। आपके व्यक्तिगत financial goals से match खाने वाले risk और reward के बीच balance खोजना balance है।

Indian stock market में शेयर चुनने के लिए बहुत अधिक research और analysis की आवश्यकता होती है। investment decisions लेते समय market को समझना और कंपनी के fundamentals, valuations, market trends और risk tolerance जैसे factors पर विचार करना important है।

शेयर बाजार में निवेश long term में आपकी संपत्ति को बढ़ाने का एक शानदार तरीका हो सकता है, लेकिन यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि यह जोखिम के साथ आता है। बाजार की स्थिति अस्थिर होने पर भी एक अच्छी investment strategy होना और उस पर stick रहना महत्वपूर्ण है।

यदि आप stock market में निवेश करने के लिए नए हैं, तो एक financial advisor और investment professional से परामर्श करना एक अच्छा विचार हो सकता है ताकि आपको सूचित investment decisions लेने में मदद मिल सके।

Overall, right approach के साथ, शेयर बाजार में invest करना rewarding experience हो सकता है। अपना शोध करके, अनुशासित रहकर और जोखिम का प्रबंधन करके, आप संभावित रूप से अपने financial goals को प्राप्त कर सकते हैं और लंबी अवधि के धन का निर्माण कर सकते हैं

CTA: यदि आप भारतीय शेयर बाजार में निवेश शुरू करने के लिए तैयार हैं, तो अपना शोध करें और एक निवेश पेशेवर से सलाह लें ताकि आपको सूचित निर्णय लेने में मदद मिल सके। सही दृष्टिकोण के साथ, शेयर बाजार में निवेश करना आपके वित्तीय लक्ष्यों को प्राप्त करने का एक शानदार तरीका हो सकता है।